Up Police Previous Year 11(सामान्य हिन्दी)

‘अपने जीवन पर स्वयं लिखी कथा’ वाक्यांश के लिए एक शब्द होगा-

  • आत्मकथा
  • आत्मग्लानि
  • संस्मरण
  • रेखाचित्र
अपने जीवन पर स्वय द्वारा लिखी गयी कथान के एक शब्द आत्म कथा तथा किसी दूसरे द्वारा लिखी गयी जीवन चरित्र (Biography) होता है।

‘अन्न-अन्य’ शब्द-युग्म के सही अर्थ भेद का चयन कीजिए।

  • अनाज-दूसरा
  • दूसरा-पराया
  • पेड़-पौधे
  • अनाज-फल
‘अन्न’ का अर्थ अनाज होता है तथा अन्य का अर्थ दूसरा होता है। इसी प्रकार आय का अर्थ कमाई तथा आयु का अर्थ उम्र होती है।

‘निर्गुना’ शब्द का उपसर्ग है-

  • निर
  • निर्गुण
  • नी
  • नि
उपर्युक्त उत्तर में ‘निर’ अधिक सटीक है। वास्तव में निर्गुण में निर् उपसर्ग है जिसमें र के नीचे हलन्त लगता है।

‘खिलौना’ शब्द में मूल शब्द है-

  • खेल
  • ना
  • औना
  • खिल
खेल शब्द में ‘औना’ प्रत्यय लगाने पर खिलौना शब्द की व्युत्पत्ति होती है।

‘उन्होनें कहाँ जाना है?’ वाक्य में किस प्रकार की अशुद्धि है?

  • सर्वनाम सम्बन्धी
  • विशेषण सम्बन्धी
  • संज्ञा सम्बन्धी
  • क्रिया सम्बन्धी
उपर्युक्त वाक्य में सर्वनाम सम्बन्धी अशुद्धि हैं, यहाँ पर उन्होंने के स्थान पर ‘उन्हे’ का प्रयोग होना शुद्ध होगा।

स्वर सन्धि में किसका मेल होता है?

  • स्वरों का
  • मात्रा का
  • शब्दों का
  • व्यंजनों का
दो स्वरों के संयोजन से उत्पन्न विकार को स्वर संधि कहा जाता हैं जैसे—हिम + आलय = हिमालय, विद्या + अर्थी = विद्यार्थी इत्यादि।

सामासिक पद को तोड़ना कहलाता है-

  • समास विग्रह
  • समास विच्छेद
  • समास
  • सन्धि
सामासिक पदों को तोड़ना विग्रह कहलाता है जैसे-दाल रोटी = दाल और रोटी।

कर्मवाच्य में प्रधान होता है-

  • कर्म
  • विचार
  • भाव
  • कर्ता
कर्मवाच्य में ‘कर्म’ की प्रधानता का बोध होता है। कर्तृवाच्य में कर्ता की प्रधानता होती है।

जिन शब्दों में लिंग, वचन, कारक आदि के कारण कोई परिवर्तन नहीं होता वह-

  • अव्यय कहलाते हैं।
  • वाच्य कहलाते हैं।
  • वचन कहलाते हैं।
  • क्रिया कहलाते हैं।
जिन शब्दों के रूप में लिंग, वचन, कारक आदि को कारण कोई परिवर्तन या विकार न हो उन्हे अव्यय कहते हैं। जैसे-जब मैं जाऊँगा तब वह आएगा। यहाँ ‘जब’ अव्यय है।

(?) इस विराम चिह्न का नाम है-

  • प्रश्नवाचक
  • योजक
  • अल्प विराम
  • पूर्ण विराम
(?) प्रश्नवाचक चिन्ह, (,) अल्प विराम, (।) पूर्ण विराम, तथा (-) योजन चिन्ह के रूप में प्रयोग किया जाता है।
अग्निवीर योजना में बड़े बदलाव की तैयारी | RPF SI, CONSTABLE भर्ती में कल से कर सकेंगे फ़ोटो साइन अपलोड | NEET में ग्रेस अंक पाए छात्रों की दोबारा परीक्षा होगीं |