UP Police Previous Year Paper

मलबे का मालिक कहानी के कहानीकार हैं-

  • मोहन राकेश
  • निर्मल वर्मा
  • कमलेश्वर
  • राजेन्द्र यादव
मलबे का मालिक कहानी के कहानीकार मोहन राकेश हैं। मोहन, राकेश की प्रमुख रचनाएँ हैं-नए बादल, अंरातल, आषाढ़ का एक दिन इत्यादि।

निम्न में से कौन-सा कवि भारतेन्दु युगीन नहीं है?

  • श्रीधर पाठक
  • पंडित अंबिकादत्त व्यास
  • ठाकुर जगमोहन सिंह
  • बद्रीनारायण चौधरी प्रेमघन
दिए गए विकल्पों में श्रीधर पाठक भारतेन्दु युगीन कवि नहीं है। श्रीधर पाठक खड़ी बोली के प्रथम स्वच्छंतावादी कवि हैं, जो द्विवेदी युग से संबंधित हैं। बद्रीनारायण चौधरी ‘प्रेमधन’, ठाकुर जगमोहन सिंह तथा पंडित अंबिकादत्त व्यास लेखक भारतेन्दु युगीन साहित्यकार हैं।

‘पयोधि, ‘सिंधु,’ ‘वारीश’ किसके पयार्यवाची शब्द हैं?

  • समुद्र
  • गंगा
  • नदी
  • मेघ
समुद्र – पयोधि, सिंधु, वारीश, सागर, अर्णव, रत्नाकर इत्यादि।

वाक्य में काम करने वाले को क्या कहते हैं?

  • कर्ता
  • क्रिया
  • कर्म
  • करण
वाक्य में क्रिया के करने वाले को कर्ता कारक कहते हैं। इसमें विभक्ति ‘ने’ कभी कर्ता के साथ लगता है और कभी नहीं। उदाहरण-अंशू ने भोजन किया। तनु गाना गा रही है। श्याम ने मिठाई खाई।

अतीत के विषय में जानने की लालसा कब और बढ़ जाती है?

  • भारतीय विद्वानों के पुनर्जागरण सम्बन्धी विचारों को पढ़कर
  • विवेकानंद के विचारों को पढ़कर
  • आर्यसमाज के विचारों को पढ़कर
  • ब्रह्मसमाज के विचारों को पढ़कर
अतीत के विषय में जानने की लालसा भारतीय विद्वानों के पुनर्जागरण सम्बन्धी विचारों को पढ़कर बढ़ जाती है।

जूतों की माला से किसका स्वागत किया गया था?

  • दयानंद
  • राममोहन राय
  • राधाकृष्ण परमहंस
  • विवेकानंद
एक हिन्दी भाषी प्रांत में दयानन्द को जूतों की माला से स्वागत किया गया था।

बाद में कौन-सी संस्था अत्यधिक पुरातनपंथी हो गयी?

  • ब्रह्मसमाज
  • भारत धर्मसभा
  • रामकृष्ण परमहंस मिशन
  • सनानत धर्म सभा
बाद में ब्रह्मसमाज भी अत्यधिक पुरातनपंथी संस्था हो गयी।

ब्रह्मसमाज के संदर्भ में असत्य कथन है-

  • ब्रह्मसमाज की स्थापना दयानंद सरस्वती ने किया था।
  • अंतिम दिनों में ब्रह्मसमाज के अनुयायी हठधर्मी हो गये थे।
  • बाद में ब्रह्ससमाज भी अत्यधिक पुरातनपंथी हो गया।
  • बाद में बहुत सारे ब्रह्ससमाजी मार्क्सवादी हो गए थे।
ब्रह्मसमाज की स्थापना राजा राममोहन राय ने की थी। आर्यसमाज की स्थापना दयानंद सरस्वती ने की थी।

निम्न में कौन-सा विद्वान शास्त्रार्थ में हरा दिया गया था?

  • दयानंद सरस्वती
  • रामकृष्ण परमहंस
  • विवेकानंद
  • राममोहन राय
दयानंद सरस्वमी को शास्त्रार्थ में हरा दिया गया था।

“वधूत्सव” का सन्धि-विच्छेद रूप क्या है?

  • वधू + उत्सव
  • वधो + उत्सव
  • वध + उत्सव
  • वद + उत्सव
वधूत्सव—वधू + उत्सव। वधूत्सव में दीर्घ स्वर संधि है। जब लघु या दीर्घ अ, इ,उ, ऋ के उपरानत लघु या दीर्घ समान स्वर आए तो दोनों के स्थान के दीर्घ स्वर हो जाता है। जैसे- अ + अ = आ, शरण + अर्थी = शरणार्थी, अ + आ = आ, गुण + आलय = गुणालय, उ + ऊ =ऊ, सिन्धु + ऊर्मि = सिन्धूर्मि, ऊ + उ = ऊ, वधू + उत्सव =वधूत्सव
सिपाही भर्ती की परीक्षा फिर कराने की कवायद भी शुरु | पंचायतों में 4821 पदों पर होगी भर्ती | रेलवे में NTPC के लिए अगले माह आ सकती हैं भर्ती |